Wednesday, July 28, 2010

Arz kiya hai

गर चाशनीयों में बस्ता है ज़िन्दगी का जायका
क्यूँ भला परहेज़ न रखें हम नम्कीन्यों से

5 comments: